PoemSri
author

Enjoy with newly born Poems on 1st & 16th day of Every Month.

जिन्दा - रहना है, जरुरी
इसलिए...

(१)   जिन्दा रहना है, जरुरी-इसलिए
       कि मरने का हमें कोई-हक़ ही नहीं है----
       किसलिए, मरते है लोग-स्वयं ही,
       कैसे मान लिया, उन सबने,
       कि, मरना ही सही है------------
(२)  चिर-निद्रा की गोद वो,
       सुख़ से सोने जो चले--------
       इससे पहले सोच ले,
       कल, इसी तरह,
       उनका, कोई प्रिय चले------
(३)  वह भी शायद सोचेगा
       उनके ही जैसे--------
       खुसी मिलेगी देख के,
       सबको रोते और बिलखते--------

(४)  कब-तक, कोई रोएगा,
       किसी के बिन, कितने- दिन----
       सबके आंसू-सुखने लगते है,
       जल्दि-जल्दि, निशदिन-निशदिन-----
(५)  सब दिखते, फिर से मस्ती में
       मरने वाला-गुम गया बस्ती में
       किसी को उसकी-फिकर नहीं
       क्यू, मरा वो-उसकी जिकर नहीं------
(६)  यही सच है,
       इसे स्वीकार करो---
       मत-मरो,
       जीवन से-प्यार करो,
       प्यार करो-----